पृथ्वी लोक को अनंत पिता का दूर संवेदनशील संदेश; दूसरा संदेश; पहला संदेश दुनिया से धार्मिक शीला द्वारा छिपा हुआ था.-

हाँ बच्चों; हर कोई सत्य की खोज में जन्म लेता है; उसका प्रारंभ ज्ञान की दुनिया के लिए होता है, रहस्योद्घाटन कई सदियों तक रुका रहा; तुम्हारा निर्माता मौजूदा सिद्धांतों का इस्तमाल करता है ताकि दुनिया आगे बढ़ सके; भूतकाल में उसने मोसैक लॉ (Mosaic Law) भेजा; तत्पश्चात क्रिस्चियन डोक्टराईन का आवाहन हुआ; और अब तीसरा, जो की शुरू होने जा रहा है, वो है धी डोक्टराईन ऑफ़ धी लेम्ब ऑफ़ गॉड; इस सिद्धांत को सेलेस्टियल साइन्स भी कहा जाएगा; इसका उद्गम प्रकृति के उन्हीं मूल तत्वों से है; ब्रह्माण्ड के निर्माता संवाद के लिए दूर संवेदनशील शास्त्रों का प्रयोग करते हैं; हमेशा से ऐसा ही होते आ रहा है; भूतकाल में पैगम्बरों के सिद्धांत दूर संवेदनशील रूप से ही प्राप्त किये गए थे; हलाकि हर चीज़ के उद्गमस्थान और उसके अस्तित्व का कारण होता है; धी डोक्टराईन ऑफ़ धी लेम्ब ऑफ़ गॉड का कोई अंत नहीं है; क्योंकि ब्रह्माण्ड के पास वह नहीं है; और इसी कारण-वश दुनिया भर में इसका फैलाव होगा; दुनिया की हर भाषा में इसका अनुवाद होगा; यह इतना प्रभावशाली होगा जिससे शोषक भौतिकता का नाश होगा; क्यूकी एक नया सदाचार दुनिया में आ रहा है; सदाचार जो अमन की सहस्राब्धि से संबंधित है; अनंत पिता के सिद्धांत हमेशा दुनिया में बदलाव लाते हैं; ठीक उसी तरह जैसा की भूतकाल में होता आया है; नए रहस्योद्घाटन का निवेदन मौजूदा इंसानी आत्माओं द्वारा किया गया था; और वह तुम्हे दिया गया है; तुम्हारे अस्तित्व के हर एक पल का निवेदन किया गया था, और वह तुम्हे दिया गया; नया रहस्योद्घाटन पवित्र ग्रंथों का ही निरंतर भाग है; ग्रंथों का अध्यन करना एक चीज़ है और धार्मिक होना एक चीज़; पहली चीज़ अनंत है क्युकी तुम्हारी आत्मा हमेशा अपने उद्गम की तलाश में रहती है; दूसरी, आस्था का व्यापार है; दुनिया में सब से पहले धर्मो की ही अभियुक्ति होती है; धी डोक्टराईन ऑफ़ धी लेम्ब ऑफ़ गॉड में; तथाकथित धर्मोने आस्था की दुनिया को बाँट दिया है; उन्हें ऐसा करने का कोई अधिकार नहीं है; वे यह भूल गए हैं की ईश्वर सिर्फ एक है; एकमात्र सत्य; केवल शैतान ही विभाजन करता है और खुद भी विभाजित हो जाता है; धार्मिक आत्माएं रोमन काल के फ़ारिसीयों की है; उन्होंने ईश्वर से यह निवेदन किया की वे पुनः जन्म लेकर भूतकाल में हुई चूकों को सुधारें; और इश्वर ने उनके निवेदन को स्वीकृत किया; दुनिया के सारे धार्मिक व्यक्ति यह न भूलें की हर एक आत्मा से अपने प्रारब्ध का परीक्षण माँगा जाता है; तुम शीलाओं की आत्माओ ने भी दूरस्थ दुनियाओं में यही किया था; तुमने दुसरे समुदायों का विभाजन किया; तुमने दूसरी योनी के जीवों को आध्यात्मिक विभ्रांतियों में रखा; तुमने कई ग्रहों को भौतिक मंदिरों से भर दिया; और यही सब तुमने धरती पर भी दोहराया; इसीलिए सब से पहले तुम्हारा निर्णय होगा; नियमों और सिद्धांतों का उल्लंघन करने पर तुम भी उतने ही ईसा विरोधी बनते हो; और हर वो व्यक्ति जो आदेशों का उल्लंघन करता है वो ईसा विरोधी है; तुम कहते हो पवित्र माता चर्च; मैं तुमसे कहता हूँ की इस दुनिया में कोई भी संत पवित्र नहीं है; असली विनम्रता को ऐसी उपाधि यों की ज़रूरत नहीं जो स्वर्ग के राज्य में न जानी जाए; तुम्हारा सूक्ष्म ग्रह भी इसमें शामिल है, केवल अनंत पिता और कुछ पैगंबर ही पृथ्वी को जानते है; इसका कारण यह है की पिता यहोवा के जीवित ब्रह्माण्ड का कोई अंत नहीं है; और जो कोई अपने आप को बड़ा समझता है वो बड़ा नहीं है; तुम्हारे लिए ही वेश्या शब्द लिखा गया था; क्यों कि तुम मेरे दिव्य नियमों को गंदा करते हो, एक अँधा अन्य अंधों का नेतृत्व करता है; जो तुम्हारी ग़लतियों को दूसरे अन्धो तक पोंहचाता है; जब नए सिद्धांत का फैलाव होगा तब तुम्हारी आध्यात्मिक स्वार्थ की शीला विभाजित होगी; शीला शब्द किसी भी वस्तु के अनंत होने का प्रतीक नहीं है; पृथ्वी सापेक्ष है अनंत नहीं; तुम सोचते हो की तुम्हारा चर्च अनंत है; भविष्य में होने वाली घटनाएँ तुम्हें इस भ्रम से बहार लाईगी ; केवल वे लोग अमर हुए हैं जो दिल-से विनम्र थे; वे नहीं जो अनैतिकता में निहित नैतिकता का पाठ पढ़ते हों; पृथ्वी के अतीत में जब मेरे प्रथम पुत्र ने कहा था; इस शीला के ऊपर मैं मेरा चर्च बनाऊंगा; तो उसने इंसानियत का भविष्य देखते हुए ऐसा कहा था; चूंकि सौर ट्रिनिटी सर्वत्र है; वह तीनों काल में है: भूत वर्तमान एवं भविष्य; और उन्होंने क्या देखा? उन्होंने तुम्हारे सारे उल्लंघन देखे; उन्होंने देखा किस तरह तुमने मासूम जीवों को सताया; इसलिए की वे तुम्हारी विचारधारा से अलग सोचते थे; उन्होंने देखा किस तरह तुमने महान विद्वानों और लेखकों को सताया; केवल इसलिए की उन्होंने तुम्हें तुम्हारी भूल दिखाई; उन्होंने देखा किस तरह तुमने राजाओं को ताज पहनाये; यह जानते हुए की अनंत परमात्मा ही राजाओं के राजा हैं; वे जो जीवन देते भी है और लेते भी हैं; राजा की उपाधि सेलेस्टियल दुनिया की है; शैतान को आत्मा का राजा कहा जाता है; दैवी आदेश राजा बनने की शिक्षा नहीं देते; वो यह शिक्षा देते हैं के नम्रता सर्वोपरि है; उन्होंने देखा किस तरह तुमने उन शस्त्रों को आशीर्वाद दिए जिससे अनंत पिता के बच्चों ने एक दूसरे को मार दिया; शैतानों, यह जानते हुए की देवी आदेश कहता है: धाऊ शेल्ट नोट किल; (तुम्हें किसको मारना नहीं चाहिए); उन्होंने आस्था का धंधा होते देखा; और उन्होंने तुम्हारी आत्मा में हर अनैतिकता को देखा; उल्लंघन करने से अच्छा होता की तुमने वापस जन्म लेने का निवेदन न किया होता; हर नैतिकता जो पिता के पुत्रों की आस्था को विभाजित करे और तुम्हारा धर्म, दोनों स्वर्ग के राज्य में नहीं जाने जाते; राज्य में जाना जाने वाला एकमात्र मंदिर है कर्म का मंदिर; कर्म ही प्राचीनतम अधिदेश है; तुम्हारे सूक्ष्म ग्रह के जन्म से पहले, प्रचंड दुनियाओं में कर्म था और है; कर्म का मंदिर कभी मिट्टी में नहीं मिलता; तुम्हारे भौतिक मंदिर मिट्टी के ढेर में मिल जाते हैं; और उसी के साथ भौतिक श्रद्धा भी इस ग्रह से मिट जाती हैं; एक ऐसी श्रद्धा जो कभी सिखाए नहीं जानी चाहिए थी; ऐसी श्रद्धा जो पाखंड से रूप लेती है; जिसके कारण तुमने दुनिया की उन्नति को उसके नैतिक एवं आध्यात्मिक सतह पर बीस सदियों में ही विलंबित कर दिया है.-

हाँ मेरे बेटे; यह दिव्य तस्वीर यह दर्शाती है की हर न्याय उसी तरह होता है जिस तरह जीवों का प्रजनन; सभी मानवीय आत्माओं ने स्वर्ग के राज्य में इस न्याय को देखा; क्यों की सभी को अपना न्याय देखने दिया गया; स्वर्ग के राज्य में सब है; जहाँ तक आध्यात्म की बात है, इस जगत में कोई अँधा नहीं पैदा होता; तुम्हारी करतूतों के आधार पर न्याय होता है; क्यों की हर किसी ने अपने आप का स्वर्ग बनाने का वादा किया था; मौजूदा आदेशों में न्याय का कानून है; और वह वही दंड है जिससे तुम्हारा मुल्यांकन किया जाएगा; तुम्हारे हर विचार का एक इरादा है; और राज्य में हर इरादा भौतिक और जीवित बन जाता है; इरादे का मुल्यांकन तब होता है जब आत्मा उसका उल्लंघन करती है; मानव शरीर चुम्बकीय नियमों का परिणाम है; जो ब्रह्माण्ड से बनाया गया है, और जिसने दिव्य नियमों को बनाया है; जो कोई दैवी होने से इनकार करता है, वो पिता को नकारता है; जिन्हें अपनी औलादों के लिए बेहतरीन चाहिए; और जो कोई पिता को नकारता है, वह अपने आप के अमरत्व को नकारता है; क्यों के अपरंपार स्वर्ग में वह उनका मन पढ़ते है; और जब वो दैवी जीव, आत्माओं को पढ़ते है, तो वे ऐसा न्याय से करते है; जो भी पिता को नकारता है, स्वर्ग में उन सभी का प्रवेश नकारा जाता है; तुम जो कुछ धरती पर करते हो उसके प्रत्याघात ऊपर होते है; और जहाँ कहीं तुम्हारी आत्मा जाती है, नियम हर उस जगह वही रहते है; मेरे आदेश नीचे और ऊपर, समान है; बदलता है तो तत्व ज्ञान जो सिर्फ कुछ समय तक जीवित रहता है; तुम्हारा न्याय आध्यात्मिक है और होना ही चाहिए; जो भौतिक है वह तुम्हारे शरीर की मिट्टी में नहीं रहता; तुम्हारे ज्ञान में; हर आत्मा का सत्य है की वह अमर है; वह अल्पकालिक नहीं है जैसा वह सोचती थी जब वह शरीर में थी; माँस का शरीर जिसके लिए निवेदन किया गया था; और वह उसे दे दिया गया था; शरीर प्रदान करने जैसा और कुछ नहीं है; शरीर जीवित है जिसने कुछ समय के लिए भौतिक भूमिति का निवेदन किया था; और वह प्रदान किया गया था; वंशानुक्रम सब के लिए समान है; आत्मा और द्रव्य को समान अधिकार हैं; दोनों निवेदन करते है; आध्यात्मिक और भौतिक नियम संविलीन है; जिसे स्वर्ग में आर्क ऑफ़ कोवेननटस कहा जाता है; क्योंकि आत्मा का भौतिकी करण अनियमित रूप से नहीं बल्कि ज़िम्मेदारी से किया जाता है; इससे विपरीत कहना अपने आपसे नफरत करने जैसा है; और जो खुद से नफरत करता है वह पिता से भी नफरत कर रहा है; जो की उसी में पाए जाते हैं; क्या तुम्हे यह नहीं सिखाया गया की तुम्हारे बनाने वाला सर्वत्र है? चाहे वह कल्पनीय हो या अकल्पनीय? वास्तव में यह तुम सिर्फ मौखिक रूप से जानते हो अपने ज्ञान से नहीं; खुद के प्रयास से; तुम्हारे चेहरे के पसीने में; खुद के बलबूते पर; जिसे चाहिए उसे मिलेगा; क्युके उसे उतना ही मिलेगा जितना उसने खोज में समर्पण किया हो; क्युके तुम बोहोत सी चीज़ों की खोज कर सकते हो; और अगर तुम पिता की खोज नहीं करते, जिन्होंने तुम्हें जन्म दिया, तो तुम स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते; एहसान फरामोश कभी प्रवेश नहीं कर पाए; केवल विनम्र; जो अपने आप के न्याय से वाक़िफ़ है; क्योंकि उस निर्णय का निवेदन उन विनाम्रों ने खुद स्वर्ग में किया था; हर निर्णय जिससे हर कोई अपने जीवनकाल में हर पल गुजरता है, हर सेकंड, सब का निवेदन किया गया और वह प्रदान किया गया; तुम्हारी मृत्यु का तरीका और विशेषता का निवेदन भी तुम्हींने किया है; और तुम्हारे न्याय में तुमने सर्वोपरि नैतिकता की पूर्ति का निवेदन किया; एकमात्र; क्यों की उसके बिना तुम कभी स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते; और तुमने यह निवेदन किया की ऐसी नैतिकता पृथ्वी पर सिखाए जाए; और तब दैवी आदेश तुम्हें दिए गए; वे दंड हैं; उन्ही के आधार पर तुम्हारा न्याय होगा; और ऐसा इस ग्रह की समाप्ति तक होता रहेगा; मानव आत्माए मेरा अध्ययन नहीं करेंगी; लेकिन, मेरे आदेशों की नैतिकता में न रहना अंधकार है; क्योंकि जहाँ पिता है वहां तुम नहीं जा पाओगे; वह समय जब तुम ज्योति से दूर होंगे, इतना अभूतपूर्व होगा की तुम्हें अंकों को पढ़ने हेतु पुनः जन्म लेना होगा; जो की तुम्हारे सूक्ष्म उत्क्रांतिवाद में नहीं है; जिस न्याय का निवेदन तुमने किया है उसकी शुरुवात सब से सूक्ष्म चीज़ जो तुम महसूस कर सकते हो वहां से होती है; इसलिए, सूक्ष्मतम, विनम्र, सभी चीज़ों में आगे है; स्वर्ग में आगे और दैवी न्याय में भी; और दैवी पिता यहोवा के सामने भी; और सूक्ष्मतम चीज़ जो तुम्हारा मन कल्पना कर सकता है; वह है तुम्हारे विचार; वही जो तुम हर रोज़ सोचते हो; वही जो तुमने स्वर्ग में निवेदित किये थे; वही जो तुम महसूस करते हो पर देख नहीं सकते; तुम्हारे सभी विचार शारीरिक रूप से अंतरिक्ष में प्रवास करते है; उनके भी वही अधिकार हैं जो तुम्हारे हैं; तुमने पदार्थ में जन्म लेने का निवेदन दिया; उन्होंने भी वही किया; तुमने समय और अंतरिक्ष में रहने का निवेदन किया; तुम्हारे विचारों ने भी वैसा ही किया; ऊपर वही है जो नीचे है; निवेदनों का वंशानुक्रम सभी में सामान है; विशाल जीव भी निवेदन करते हैं और सूक्ष्म जीव भी; जीवित और निर्जीव निवेदन करते हैं; और पिता सबकुछ प्रदान करते है; क्यों की वे अनंत हैं; तुम्हारे विचार अंतरिक्ष का प्रवास करते हैं, अभूतपूर्व दूरियाँ; दूरियाँ जिसका तुम अनुमान नहीं लगा सकते; सिर्फ पिता जानते हैं; तुम्हारे विचार स्वर्ग में जाने जाते हैं, गांगेय बीज की तरह; उन्ही से तुम्हारी दुनिया जन्म लेती है, तुम्हारे अपने स्वर्ग से; मेरी स्वतंत्र इच्छा में यह लिखा गया था: हर कोई अपना स्वर्ग खुद बनाता है ; क्यों के तुम सभी में सूक्ष्म रूप में पिता का अंश है; जो कुछ पिता के पास है, वह बच्चों के पास भी है; ठीक उसी तरह जैसे पृथ्वी लोक के माता-पिता के साथ होता है; उनकी अनुवांशिक विशेषताएँ उनकी संतति में आती है; जो ऊपर है वही नीचे है; जो विरासत पिता ने तुम्हें दी, वह मासूमियत से भरी थी और तत्व ज्ञान से खाली; क्योंकि तुम्हारी मर्ज़ी है क्या चुनना है; और जो तुम हो वह तुम्हारी वजह से हो; क्योंकि सबकुछ अपने चेहरे के पसीने में ही है; आध्यात्मिक प्रयासों से पिता की निर्मिती में ऐसा कुछ नहीं जिसकी कोई कीमत न हो; सबकी कीमत है और होगी; आध्यात्मिक योग्यता के बिना कोई स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकता; इसलिए तुम्हारी दुनिया की सुविधाओं की स्वर्ग में कोई कीमत नहीं; हर सुविधा जिसका तुमने आनंद लिया वह वहीँ समाप्त हो चुकी ; और इसी वजह से यह लिखा गया है: और उन्हें अपना इनाम मिल गया; सभी भौतिक सुखों की स्वर्ग में कोई योग्यता नहीं है; और कम से कम वह सारे सुख जो की तत्व-ज्ञान की उपज हैं जिन्होंने पिता के आदेशों का पालन न किया; ऐसे तत्व ज्ञान के दिन गिने हुए है; क्योंकि निर्माता देते है और छीनते भी हैं; तुम्हारा भौतिक तत्व ज्ञान चूर चूर हो जायेगा; क्योंकि हर चीज़ का अपना वक्त होता है; क्योंकि सबकुछ पिता के आदेशों पे निर्भर है; ऐसी निर्भरता जो तुमने खुद अपने न्याय में निवेदित की थी; तुम्हारे अपने जीवन का पतन तुम्हारे वास्तव का पतन है; विनम्रों शोषितों और पीड़ितों के लिए यह सब से महान घटना होगी; क्योंकि ईश्वर के समक्ष सब सामान है; कोई पैदाईशी गरीब या अमीर नहीं; ऐसी परिस्थितियां महत्वाकांक्षी आत्माओं ने खडी की थीं; वे जो केवल अपने वर्तमान में जीते हैं; सबसे पिछड़ी आत्माएं; ऐसी अल्पकालिक सोच रखने वालों ने केवल दुनिया को ग़ुलाम बनाया; ऐसे सारे राक्षसों का न्याय दुनिया खुद करेगी; क्यों की किसी को अपनी आत्मा का विरोध नहीं करना; धी लेम्ब ऑफ़ गॉड के सिद्धांत की रोशनी दुनिया को बदल देगी; क्यों की ऐसा स्वर्ग में लिखा है; पृथ्वी लोक को जैसा कहा गया था उससे विपरीत किया है; सदियों से यह बात मेरे दैवी आदेश कहते आये हैं; जो नम्र है वो पहले है; हर चीज़ में; और तुमने दैवी आदेश का क्या किया? क्या मेरे विनम्र दुनिया पर नियंत्रण करते हैं, क्योंकि वे सभी में उन्नत है? वास्तव में नहीं; क्योंकि मैं देख रहा हूँ जो विनम्र है वह शोषित है; वे उसका भाग नहीं बन सकते जिसे तुम अगला समाज कहते हो; और किसने तुम्हें अधिकार दिया ऐसा समाज बनाने के लिए? क्या मेरे शास्त्रों में ऐसा लिखा है? वास्तव में तुम राक्षसो को मैं कहता हूँ की हर वो तत्व ज्ञान का पेड़ जो निर्माता ने नहीं लगाया, जड़ से उखाड़ दिया जाएगा; ऐसे ही हर उत्क्रांतिवाद में हुआ है; और किसने तुम्हें बनाया और राजा बनाया, क्या तुम नहीं जानते पिता ही राजाओं के राजा हैं? और राजा की उपाधि इस दुनिया से नहीं; वह स्वर्ग से आती है; शैतान को आत्माओं का राजा कहा जाता है; दैवी आदेश सिखाते हैं विनम्रता सर्वोपरी है; वह अपने आप को राजा बनाना नहीं सिखाते; मैं तुम शासित अभिजीत वर्ग के राक्षसों से ख़ास कहता हूँ; की तुम में से कोई भी स्वर्ग में प्रवेश नहीं पायेगा; और तुम्हारे सहित तीन पीढ़ियों तक की तुम्हारी संताने भी; क्यों की पिता यहोवा के ब्रह्माण्ड में हर विरासत प्रेरित की जाती है; कोई भी व्यर्थ नहीं होना चाहिए था, समय का सूक्ष्म पल भी नहीं; क्यों की केवल एक पल या उससे भी कम का उल्लंघन तुम्हें स्वर्ग में प्रवेश से रोक देगा; दुनिया के शासित राजाओं, तुम्हारी संतति की मासूमियत तुम्हें श्राप देंगी; क्यों की तुम्हारी वजह से वे स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर पाएंगे; और उनके साथ हर वो व्यक्ति जिसने तुम्हारी शासित तत्व ज्ञान में तुम्हारी सेवा की; एक भी शैतान जिसे अभिजीत कहा जाता है स्वर्ग में प्रवेश नहीं पायेगा; क्यों के स्वर्ग में केवल कर्म की योग्यता को मान्यता है; ब्रह्माण्ड का तत्व ज्ञान; वह जिसका अनुरोध हर विनम्र और ईमानदार जीव ने किया; जो धरती पर राजा थे ओर हैं, वे मोह में बंदी घमंडी आत्माएं हैं; उनकी आत्माओ में अन्य अस्तित्वों का गांगेय प्रभाव है; ऐसे अस्तित्व जहाँ सबकुछ भौतिक है बौधिक कुछ भी नहीं; जीवन का नमक समुचित अंधकार; और ऐसा कोई शैतान नहीं जो किसी न किसी दुनिया का राजा रहा हो; यह तत्व ज्ञान शैतान खुद बनाता है; उसी पल से जब उसने विद्रोह शुरू किया; और वो सारा लश्कर जिसने उसके साथ विद्रोह किया; सभी मानव आत्माएं जिन्होंने समुदाय बनाने का अनुरोध किया; ऐसा देश जिसका नेता एक राजा हो; वो राक्षस के लश्कर का है; क्यों के तुम सभी स्वर्ग से आये हो; और राक्षस भी वहीँ से आये हैं; स्वर्ग में रहते समय, आत्माएं दूसरे जीवों की परंपरा अपनाती हैं; ठीक वैसे ही जैसे तुम लोगों के बीच होता है; क्योंकि जो ऊपर है वैसा ही नीचे है; शैतान की नक़ल करनेवाले धार्मिक, अमीर, राजाओं, और शासित लोग जो ज़बरदस्ती तत्व ज्ञान बनाते है उन्ही में से हैं; लेकिन, कोई शैतान नहीं बचेगा; दैवी पिता का जीवित जगत सबकुछ शुद्ध कर देता है; सबकुछ बदल देता है; वैसे ही जैसे उन्होंने पुरानी दुनिया को धी मोसैक लॉ में बदल दिया; और तत्पश्चात धी क्रिस्चियन डोक्टराईन; अब वे धी डोक्टराईन ऑफ़ धी लेम्ब ऑफ़ गॉड से ऐसा करेंगे; और निर्माता के लिए इससे सरल और कुछ नहीं की वे माँस की दुनिया को जीवित दुनिया में बदल दें; वही दुनिया जो दैवी शक्तियों ने पहले कहा था: रोशनी रहने दो और रोशनी थी; वही दुनिया जिसने सारे पवित्र ग्रन्थ बना ये; वही दुनिया जिसने तुम्हें आदेश दिए; और वही दुनिया जो पहले तुम्हारा बौधिक न्याय करती है, और फिर भौतिक क़ानूनों द्वारा; क्यों की हर आत्मा ने ऐसा अनुरोध किया था; उन्होंने अंतिम निर्णय में ही अपना न्याय करने का अनुरोध किया; उन्होंने जीवन के हर पल में न्याय करने का अनुरोध किया था; शुरू करते हैं मेरे शास्त्रों को समझने की कठिनाइयों से; सबकुछ तुम्हारे अनुरोध से ही हुआ; यहाँ तक की धी लेम्ब ऑफ़ गॉड के विज्ञान का शुक्ष्मातिसुक्ष्म विवरण; इससे तुम्हें यह पता चलता है की जो तुम देख नहीं सकते वह भी स्वर्ग से नियंत्रित होता है; उत्तेजनाएं जो तुम नहीं जानते; न्याय तुम्हारी सोच के लिए है; तुम्हारे विचार; तुम्हारे लक्ष; तुमने स्वयं स्वर्ग में इसका निवेदन किया था; और तुमने तुम्हारे मूल के विस्मरण का भी निवेदन किया; तुम्हारे निर्माण का तरीका और विवरण; लेकिन, तुम्हे सब पता होना चाहिए; क्योंकि तुमने यह माँगा की तुम धी लेम्ब ऑफ़ गॉड की रोशनी को धरती पर जान सको; तुमने ज्ञान पाने की सांत्वना दी; तुमने एक नए सिद्धांत का निवेदन किया; और तुमने माँगा की यह सिद्धांत अप्रत्याशित रूप से आए; धी डोक्टराईन ऑफ़ धी लेम्ब ऑफ़ गॉड का सिद्धांत; इसकी जानकारी बोहोत पहले ही हो जानी चाहिए थी; धार्मिक शीला के अविश्वास और भौतिकता ने तुमसे सच छिपाए रखा; उनके पास धी लेम्ब की सूचियाँ हैं; पहली सूचियाँ उनके हाथ में दी गईं थी; क्योंकि उनका न्याय हो चुका था; हर आत्मा का न्याय होता है; यह शैतान ऐसी आस्था सिखाते है जिसमे वे खुद यकीन नहीं करते; उन्होंने यह निवेदन किया की सत्य का ज्ञान पहले उन्हें प्राप्त हो; और उन्हें वह दिया गया; उन्होंने सत्य को इसलिए छुपाया क्यों की उनके हृदयों में स्वार्थ पैदा हो गया; वे सबसे कम विश्वास करते हैं; वे भौतिक लालचो से प्रभावित हैं; एक राज विरासत; जिससे व्यक्ति की पद्दोन्नती होती है; वास्तव में मैं तुम श्रद्धा के लालची राक्षसों से कहता हूँ की मेरी दुनिया का एक भी झूठा व्यक्ति स्वर्ग में नहीं जाएगा; एक भी स्वार्थी पत्थर नहीं जा पायेगा; तुम को यह पीढ़ी और आने वाली पीढ़ियाँ शापित करार देंगी; तुम शैतानों की वजह से इंसान स्वर्ग में नहीं जा पायेगा; क्योंकि हर बीता पल उल्लंघन में जीना था; क्यों की केवल एक पल या उससे भी कम का उल्लंघन तुम्हें स्वर्ग में प्रवेश से रोक देगा; और जब तुमने दुनिया से सत्य छुपाए रखा, तुम इंसानियत को स्वर्ग से और दूर ले गए; क्योंकि तुमने ग़लतियों को और बढ़ावा दिया, गलती में रहने का समय कई ज्यादा है; उल्लंघन का हर पल स्वर्ग का दरवाज़ा बंद कर देता है; तुम सभी को ऐसे पलों को जोड़कर मिनट, घंटे, सप्ताह, साल और जितने साल तुम जिए सब को गुनकर गिनने हैं; जब से तुम बारह साल के हुए तब से गिनने है; उस उम्र के पहले; हर आत्मा ईश्वर के सामने मासूम है; और जिस किसी ने एक पल या उससे भी कम समय तक मेरे किसी भी मासूम को सताया है वो स्वर्ग में नहीं आ पाएगा; क्युकी दूसरी योनियों में जब वे मासूम थे तो उन्होंने शिकायतें कीं थी जब उन्हें सताया था; इसलिए यह लिखा गया: दूसरों के साथ ऐसा मत करो जो तुम अपने साथ नहीं होने देना चाहते; इसी वजह से ऐसे माँ बाप, सौतेले माँ बाप या कोई और जो बच्चों का प्रभारी हो जो बुरा है, वो स्वर्ग में नही आ सकता; उनका भविष्य मेरे निर्दोषों के न्याय से होगा; क्यों के हर छोटा स्वर्ग में बड़ा है; क्या तुम्हें यह नहीं सिखाया गया की जो नम्र है पिता के सामने वही पहला है? इसका मतलब की हर सूक्ष्म चीज़ पिता जेहोवा के न्याय में अव्वल है; इसी कारण से तुम्हारी आत्मा स्वर्ग में अव्वल नहीं है; पहले वे है जिन्हें धरती पर नफरत की गई; तुम्हारी आत्माएं पहले होने की मांग नहीं कर सकती; क्योंकि तुम्हें सब से ज्यादा विनम्र होने को कहा गया था; जो अंतिम होता है वो हमेशा नम्र होता है; उसे दी गई अहमियत की परवाह नहीं होती, वास्तव मे मैं तुमसे कहता हूँ की जिसने अपने आप को अहमियत दी वह स्वर्ग में नहीं आ सकता; चाहै वह एक पल या उससे कम भी क्यों न हो; इस इंसानियत का पतन झूठे सांसारिक संकल्पना की वजह से है, जो तुम मे धार्मिक शीला की झूठी नैतिकता द्वारा डाला गया था; इस वेश्या ने जो सदियों तक आस्था का व्यापार करती रही, खुद के तत्काल लाभ के लिए सब अपने हिसाब से किया; उसने विनाम्रो के बारे में नहीं सोचा; विनम्र अपने आप को विलासिता से नहीं घेरे रखता; वह अपने आप को झूठा साबित नहीं करता; क्यों के हर विनम्र व्यक्ति उससे गुज़र चुका है जिससे बदनामी चाहने वाले गुज़र रहे हैं; हर भौतिकतावादी पिछड़ी आत्मा है; जो सूक्ष्म उपस्थितियों के प्रति आकांक्षा रखता है; उससे अधिक, वे आत्मा के क़ानूनों को नज़रअंदाज़ करते हैं; ऐसा चरित्र होता है तथाकथित पाद्रिओं का; वेश्याओं के मुखिया; इन्हें स्वर्ग में जाना जाता है; क्यों के इनमेसे किसी ने प्रवेश नहीं किया; केवल विनम्र और सविनय प्रवेश पाते हैं; और हर धर्म भी अज्ञात है; और तुम्हारी धरती भी; ऐसा अनंत नियमों की वजह से है; उनमे से एक है की ब्रह्माण्ड अनंत है; इतना अनंत की हर सपना सच हो जाए; दूसरा नियम है की हर एक अपना स्वर्ग खुद बनाता है; और इस तरह तथाकथित पादरियों और उनके अनुयायी, जिन्होंने भौतिक श्रद्धा के तत्व ज्ञान को संजोये, अपने ऐसे तत्व ज्ञान से अपनी दुनिया बनायीं; क्योंकि हर दुनिया एक स्वर्ग से घिरी है; और हर कोई अपना स्वर्ग खुद बनाता है; भौतिक जगत दैवी पिता ने बोया हुआ वृक्ष नहीं है; और वह स्वर्ग में नहीं जाना जाता; और इसी तरह हर सिद्धांत या विज्ञान या पंथ जिसने मेरे विनाम्रों को महत्व नहीं दिया; क्यों की मैं वास्तव में कहता हूँ की इस ग्रह को विनाम्रो द्वारा शासित होना चाहिए था; क्योंकि वे स्वर्ग में अव्वल हैं; वे ऊपर पहले है और नीचे भी पहले होने चाहिए; और सब उल्टा किया गया है; यह दुनिया उनसे शासित की जा रही है जिन्होंने स्वर्ग मे शासन की मांग नहीं की; अंधकार की आत्माएं तुम पर शासन करती हैं; क्यों की उनके पद पर वे रोशनी के नाम पर ऐसा नहीं कर रहे; वे अपने सम्भाषण मे मेरा उल्लेख नहीं करते; उनका ध्येय निर्माता नहीं हैं; उनका ध्येय उसपे है जो अल्पकालिक है; वह जो अनंतता के सामने केवल क्षण भर के लिए है; मैं उनका मन पढ़ता हूँ; मैं उनके गणित देखता हूँ; क्यों की मैं सर्वत्र हूँ; मैं देखता हु की वे खुद अपने अंधकार की दुनिया बनाते हैं; मैं वास्तव में तुम घमंडी और व्यर्थ नेताओं से और जिस किसिने मेरे आदेशों को ध्यान मे नहीं लिया उन सबसे कहता हूँ की तुममेसे कोई नहीं बचेगा; यदि शुरू से विनम्रो ने शासन किया होता तो न्याय की जरुरत ही न होती; उल्लंघन कर्ता ही क़यामत बनाते हैं; एक भी उल्लंघन कर्ता पिता के राज्य में नहीं जा पायेगा; कानून स्वयं तुम मे है; ऐसा हमेशा से ही है; तुम को केवल सोचना है; और तुम तुम्हारा न्याय बना रहे हो; वस्तु और आत्मा अपने आप के नियमों में सोचते हैं; क्यों के कोई भी बिन आनुवंशिक नहीं है; सबको सामान अधिकार हैं; पिता के समक्ष कोई कमतर नहीं है; यह अधिकार हर कल्पनीय रूप में व्यक्त होते हैं; क्यों के ग्रहों में निवास से पहले, भविष्य की प्रकृति के तत्वों के साथ परस्पर संवाद पहले से हो चुका है; और हर चीज़ जो तुम्हारे अस्तित्व के दरमियान तुम्हारी आँखों ने देखा है उसका अनुरोध तुम्हिने उन दिव्य संवादों में किया था; इसीलिए पिता यहोवा के जीवित ब्रह्माण्ड में वस्तु एवं आत्मा को न्याय मांगने का अधिकार है; वस्तु और आत्मा की मुक्त इच्छा है; जो परस्पर स्वतंत्र है; अगर ऐसा न होता तो न्याय में पूर्णता न होती; सभी के अधिकारों में समानता न होती; पिता का न्याय सिर्फ एक है, किंतु अनगिनत रूपों में व्यक्त किया जाता है; क्यों के उनमें कुछ सीमित नहीं है; हर न्याय सृजन के कृतियों से ही जन्म लेता है; वह जीवन का नमक है, जो अपने न्याय को रूप देता है; जीवन का नमक वही ज्ञान है जो तुम एक अस्तित्व में पते हो; उसकी स्वतंत्र इच्छा को ध्यान में लेते हुए; आत्माएं ज्ञान पाने की दौड़ में समान गति से आगे नहीं बढ़ती; कुछ पहले होती हैं और फिर शेष; यह नियम तुम लोगों में शारीरिक असमानता दर्शाता है; हर ज्ञान यानि जीवन का नमक तुम मे अविरत बनता है; लेकिन अनंत मात्रा में सबकुछ सापेक्ष है; तुम स्वयं तुम्हारे जीवित संबंधियों के गुण और गुणवत्ता बनाते हो; गुण तुम्हारी सोच के तत्व ज्ञान से दिए जाते हैं, और गुणवत्ता स्वर्ग में तुम्हारे आध्यात्मिक पद क्रम से; सर्वोत्तम गुणवत्ता विनम्रता से प्राप्त की जाती है; तत्पश्चात आनंद और कर्म से; ईश्वर के राज्य के दिव्य साम्यवाद को निहारो; एक बच्चे के तत्व ज्ञान से दिव्य साम्यवाद; वो जिसने अपनी जिंदगी में आनंद नहीं किया, स्वर्ग में नहीं जाता; एक भी मुखर चरित्र वाला नहीं जाएगा; यद्यपि वह मुखरता एक पल या उससे कम समय के लिए भी क्यों न रही हो; स्वर्ग में तुम सभी ने आनंदमयी रहने का वादा किया था; स्वर्ग की ही नक़ल करते हुए; तुमने हर परिस्थितियों में आनंदमयी रहने का वादा किया था; तुमने मूर्खतापूर्ण चरित्र की मांग नहीं की थी; क्योंकि तुम जानते थे की स्वर्ग में उसे नहीं जाना जाता; और तुम जानते थे की मूर्खतापूर्ण होते हुए तुम स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते; अगर तुम्हारे अस्तित्वों में तुम बार बार गुस्सा हुए, तो इसकी वजह अनुचित जीवन पद्धति है जिसे मनुष्यों ने चुना; और ऐसी पद्धतियाँ निर्माण करने वालों को न्याय में भुगतान करना होगा; क्यों के उन्होंने ऐसा अनुरोध किया था; और इसीलिए उन्हें ऐसा प्रदान किया जायेगा; ऐसे शैतान जिन्होंने शोषक पूंजीवाद का निर्माण किया, उनपर दैवी न्याय का पूरा बोझ गिरेगा; महत्वाकांक्षा और प्रबलता के इन शैतानों ने अनंत पिता को वादा किया था की वे उनके दिव्य नियम का महिमा बनाएँगे; नहीं के वे तानाशाह बने; क्योंकि यह जीवन शैली जिसका परिणाम अच्छाई और सुविधा का विज्ञान है, गुलामी का चिन्ह है; ऐसी गुलामी जो अपने अंत तक पोहोंच रही है; क्यों के नए काल के प्रारंभ का समय आ चुका है; नए वक्त के साथ नयी दुनिया; नयी नैतिकता के साथ नयी नियति; क्या तुम्हें यह नहीं सिखाया गया था की निर्माता सबकुछ नवीकरण करते हैं? धी लेम्ब ऑफ़ गॉड के सिद्धांत से अंतिम निर्णय शुरू हो चुका है; एक दर्दनाक अंत; क्योंकि पिता के नियम के हर उल्लंघन से पीड़ा ही होती है; जैसे तुमने अपने जीवन में अन्याय अनुभव किया है; अन्याय जिसने ऐसी जीवन शैली से जन्म लिया जिसे दैवी पिता ने निर्मित नहीं किया था और जो स्वर्ग में नही जाना जाता.-

लेखन

अल्फ़ा और ओमेगा.- 

क्या आ रहा है.-

क्या आ रहा है, वो हर एक पर निर्भर है; क्युके वो लिखा गया है, की हर एक का निर्णय उनके कामों से होगा; ईश्वर के दैवी निर्णय में उम्र के बारह साल से लेकर सभी विचार शामिल हैं; क्यों के केवल बच्चों को दैवी निर्णय का सामना नहीं करना पड़ता; ईश्वर का दैवी निर्णय तथाकथित वयस्कों के परीक्षित जीवन में चिन्ताकारक है; जो एक पल के लिए सोचा गया था वह अस्तित्व के समान होगा; वह जिस तरीके से सोचा गया था, वह एक रोशनी अधिग्रहित हो सकता है या फिर एक रोशनी खोया हुआ; ऐसा उन चीजों के लिए है जो ईश्वर की हैं, असीम हैं; अनंत पिता सूक्ष्म मानसिक प्रयास के लिए पूरा का पूरा अस्तित्व प्रदान करते हैं.-

अल्फ़ा और ओमेगा.- 

दीर्घ प्रतीक्षित रहस्योद्घाटन की शुरुवात कैसे हुई?

दैवी पिता के दूत होने के नाते सन १९७५ और १९७८ के बीच, रहस्योद्घाटन की शुरुवात में होने वाले उनके अनुभव और सनातन से मिलने वाले दुर्संवेदंशील आदेशों के बारे में उन्होंने बताया. देव दूत अल्फ़ा और ओमेगा की लीमा में हुई बातों की कैसेट रिकार्डिंग का अनुवाद निम्न प्रकार से है.

-अल्फ़ा और ओमेगा: देखो मैं आम इंसान था; मैं हमेशा से आम ही रहा; केवल यहाँ मैं आदेशों का पालन करता हूँ; पिता ने मुझसे एक बार कहा, उन्होंने मुझसे नोट पैड पर कुछ लिखने को कहा जो मेरे पास अभी भी है; उन्होंने मुझे एक संदेश दिया, उन्होंने लिखवाया; वह लेखन मुझे याद है: बेटा चुनो, क्या तुम ईश्वर की सेवा करना चाहते हो या फिर तुम्हारा सांसारिक जीवन यूँ ही गुज़ारना चाहते हो?; तुम्हें चुनना होगा, क्यों की तुमने अपने जीवन में स्वतंत्र इच्छा की मांग की थी, जैसा सब करते है; उन्होंने सोचने के लिए मुझे तीन मिनट दिए; इस बात को ध्यान में रखें की उन्होंने मुझे चुनाव करने का पर्याय दिया; फिर मैंने उनसे कहा….. मैं उनसे दूरसंवेदनता से उत्तर देने जा रहा था- नहीं पुत्र, लिखित में, क्यों के तुमने लिखित का अनुरोध किया था; इश्वर को हर भावना का निवेदन किया जाता है, फिर मैंने उनसे कहा: पिता जेहोवा, मैं आपका अनुकरण करता हूँ, क्यों की जो मनुष्यों का है वह सनातन नहीं है, मैं उन्ही का अनुसरण करना पसंद करूँगा जो अनंत हैं.

– भाई: लेकिन, क्या उस वक्त तुम छोटे थे?

– अल्फ़ा और ओमेगा: हाँ.

– भाई: सात साल की उम्र में तुम यह सब जान गए?

– अल्फ़ा और ओमेगा: हाँ, हाँ; वह नोट पैड अभी भी मेरे साथ है और वह कागज़ पीला हो चुका है, मुझे उसे सूट केस में रख देना चाहिए था, वो वहां कहीं है; और फिर पिता ने मुझसे कहा: हाँ पुत्र, मुझे पता था, लेकिन तुम्हें परीक्षा में खरा उतरना था; यद्यपि सनातन जानते हों, तुम्हें परीक्षा में खरा उतरना होता है; क्यों के अगर तुम खरे नहीं उतरते तो तुम्हें कोई अनुभव नहीं होता.

– बहन: लेकिन क्या उन्होंने ऐसे ही तुम्हें चुनकर अचंबित कर दिया; याने ऐसे ही अप्रत्याशित रूप से उन्होंने तुम्हें चुना?

– अल्फ़ा और ओमेगा: हाँ मैं तुम्हें वही बताने जा रहा हूँ, हर अकल्पनीय घटना का अनुरोध ईश्वर से किया जाता है, जिस तरह लोग आविष्कार का अनुरोध करते हैं, ठीक वैसे ही मैंने प्रकाशित करने का अनुरोध किया, हर एक ने अपने अस्तित्व का अनुरोध ईश्वर से किया; जैसे जो धार्मिक है उसने केवल उपदेश देने का अनुरोध किया था विभाजन करने का नहीं; ना हीं शैतान की नक़ल करने का; ऐसा सुनने में ही कितना बेतुका लगेगा: पिता, मैं जब दूर दुनिया में जाऊँगा तो अपने भाइयों को विभाजित करूँगा, सुनने में ही अनादर पूर्ण लगता है; नहीं?; जब तुम यह जानते हो की ईश्वर ही शुद्ध प्रेम ह.

अल्फ़ा और ओमेगा नियमावली के शीर्षकों के बारे में कहते हैं: यह जान लें की कई ऐसे शीर्षक हैं जो कुछ ही समय में आने वाले है, पिता कहते हैं, लगभग १०,००० शीर्षक निश्चित रूप से; जैसे क्या आ रहा है? एक शीर्षक है, ऐसे १०, ००० नोटबुक में भेजे जा चुके हैं; नियमावली का प्रथम हिस्सा नोटबुक में है; शुद्ध शीर्षकों से करोड़ों किताबें बनानी हैं जिसे क्या आ रहा है कहा जायेगा; सिर्फ शीर्षक; फिर दुनिया की सभी भाषाओं में अनुवाद किया जाएगा, ऐसा पिता कहते हैं, क्यों के ईश्वर सर्वत्र हैं.

स्वर्गीय विज्ञान, टेलिपाथिक इंजील है; और इसके प्रतीक भगवान की भेड़ का बच्चा है। 

अल्फा और ओमेगा, भारी टेलिपाथिक इंजील के लेखक हैं। उन्होंने कहा कि चिली और पेरू में 1978 के वर्ष तक 4.000 स्क्रॉल ऊपर लिखा है।

इस दिव्य रहस्योद्घाटन रोल और मेमने (अध्याय 5) के रूप में रहस्योद्घाटन की पुस्तक में पहले से ही बताया जाता है। इस खगोलीय विज्ञान, सब बातों का मूल बताते हैं और घोषणा की क्या आ रहा है।