भगवान की चीजें सार्वभौमिक हैं; किसी के लिए अनन्य नहीं है

विज्ञान नैतिक गैलेक्टिक फिलोसोफी मनोविज्ञान डिवाइन जस्टिस

पृथ्वी के सभी निवासियों, भगवान की खुशी से स्तुति करो.

भजन 100

ब्रह्मांड के निर्माता के लिए सभी के साथ सीधे संचार में होगा; टेलीपाथिक शास्त्र के माध्यम से

सेलेस्टियल साइन्स

शताब्दियों के लिए रहस्योद्घाटन लंबे इंतजार

रहस्योद्घाटन पृथ्वी पर फैल जाएगा, और दुनिया के सभी भाषाओं में अनुवाद किया जाएगा; और इसमें कोई इंटरप्रेटर नहीं होगा जो इसमें भाग नहीं लेगा; क्योंकि प्रत्येक अक्षर के अनुवाद लिए, प्रकाश की एक प्रकाश के तुल्यकालन है जो कमाया जाता है ।

लेखक : अल्फा और ओमेगा

आप एक क्लिक के साथ पुस्तकें डाउनलोड कर सकते हैं

मानव अनुवाद के प्रोजेक्ट में आपका स्वागत है.

हम आपको अपने अल्फा या प्रारंभिक चरण में टेलिपाथिक संदेश के मानव अनुवाद का परिचय देते हैं। यह संदेश स्पेनिश में लिखा गया था.

ग्रहों के समुदाय को इन अनुवादों का क्रम चाहिए। इसलिए बेहतर अनुवाद के साथ प्रस्तावों को प्राप्त करने के लिए.

यह दिव्य तस्वीर यह दर्शाती है की हर न्याय उसी तरह होता है जिस तरह जीवों का प्रजनन; सभी मानवीय आत्माओं ने स्वर्ग के राज्य में इस न्याय को देखा; क्यों की सभी को अपना न्याय देखने दिया गया; स्वर्ग के राज्य में सब है; जहाँ तक आध्यात्म की बात है, इस जगत में कोई अँधा नहीं पैदा होता; तुम्हारी करतूतों के आधार पर न्याय होता है; क्यों की हर किसी ने अपने आप का स्वर्ग बनाने का वादा किया था; मौजूदा आदेशों में न्याय का कानून है; और वह वही दंड है जिससे तुम्हारा मुल्यांकन किया जाएगा; तुम्हारे हर विचार का एक इरादा है; और राज्य में हर इरादा भौतिक और जीवित बन जाता है; इरादे का मुल्यांकन तब होता है जब आत्मा उसका उल्लंघन करती है; मानव शरीर चुम्बकीय नियमों का परिणाम है; जो ब्रह्माण्ड से बनाया गया है, और जिसने दिव्य नियमों को बनाया है; जो कोई दैवी होने से इनकार करता है, वो पिता को नकारता है; जिन्हें अपनी औलादों के लिए बेहतरीन चाहिए; और जो कोई पिता को नकारता है, वह अपने आप के अमरत्व को नकारता है; क्यों के अपरंपार स्वर्ग में वह उनका मन पढ़ते है; और जब वो दैवी जीव, आत्माओं को पढ़ते है, तो वे ऐसा न्याय से करते है; जो भी पिता को नकारता है, स्वर्ग में उन सभी का प्रवेश नकारा जाता है; तुम जो कुछ धरती पर करते हो उसके प्रत्याघात ऊपर होते है; और जहाँ कहीं तुम्हारी आत्मा जाती है, नियम हर उस जगह वही रहते है… अल्फ़ा और ओमेगा

वे घटनाएं जो भारत में होंगी; जैसा कि लिखा गया था, दिव्य सत्य पूर्व में शुरू होकर पश्चिम तक फैलता है; भारत में दोबारा जन्म लेने वाली आत्माओं को दिव्य लंबित पुरस्कार मिला था; लेकिन, उन्हें पाने में समर्थ होने के लिए, उन्हें अपनी जीवन की परीक्षाओं में केवल एकमात्र परमेश्वर को मानना चाहिए था; जिसने भी कई परमेश्वरों को पूजा, उसने परमेश्वर में अपने विश्वास को कम किया; परमेश्वर के पुत्रों के ये विचित्र उपासक, स्वर्ग के साम्राज्य में प्रवेश नहीं पायेंगे; उन लोगों के स्वर्ग के साम्राज्य में जाने की संभावना ज्यादा है, जो केवल एक परमेश्वर को पहचानकर, अपने आप में एक हो गए.-

ऐसा ही है पुत्र; परमेश्वर की दिव्य धर्मशिक्षा में सदियों से घोषित घटनाक्रम भारत में होंगे; दिव्य पिता यहोवा, पूर्व से पश्चिम का क्या अर्थ है? जिसे हम आपकी दिव्य कृपा से आपकी दिव्य धर्मशिक्षा में पढ़ते हैं; इस दिव्य चेतावनी का अर्थ है, प्रवास की सबसे बड़ी घटनाओं में से एक घटित होगी, जिसे आज तक मानव नेत्रों ने पहले कभी नहीं देखा है; इसका अर्थ है कि पूर्व में परमेश्वर के पुत्र के होने के कारण, अपने भौतिक पुनरुत्थान की आशा में पश्चिम पूर्व की ओर स्थानांतरण करेगा…  लेखक: अल्फा और ओमेगा

सेलेस्टियल साइन्स

अल्फा और ओमेगा, विशाल टेलीपाथिक इंजील के लेखक हैं ।

उन्होंने स्पेनिश में ४,000 रोल लिखे हैं, चिली और पेरू के देशों में १९७८ के साल तक  ।

उसकी दिव्य प्रकटीकरण, रहस्योद्घाटन की किताब में घोषित किया गया है जैसे रोल और मेम्ने (अध्याय ५)।

यह विज्ञान, सभी चीजों की उत्पत्ति के बारे में बताता है और बताता है कि आने वाले क्या हैं।

यहाँ मोहर का रहस्योद्घाटन है; और इसका मतलब है कि केवल एक पिता द्वारा भेजे गए है, आप परमेश्वर के मेम्ने के रोल लिख सकते हैं। परमेश्वर के मेम्ने के सभी रहस्योद्घाटन पतले कागज और गत्ता के रोल में होंगे; कि शास्त्र को पूरा किया जा सकता है, फिर दुनिया को दिया जाता है। रोल शास्त्रों के एक दर्शन में समाहित हैं; और उनके ज्ञान का कोई अंत नहीं है। लेखक : अल्फा और ओमेगा

रहस्योद्घाटन के लिए सदियों से इंतजार है।शोधकर्ताओं ने महान तथ्यों की जांच की, जो दक्षिण अमेरिका में हुई थी; चिली और पेरू में, १९७८ के वर्ष तक । नई रहस्योद्घाटन

पवित्र शास्त्रों की निरंतरता है।